Meri Bitiya

Thursday, Apr 22nd

Last update02:57:01 PM GMT

मेरी बिटिया डॉट कॉम अगर आपको पसंद हो, आप इस पोर्टल के लिए सुझाव, समाचार, निर्देश, शिकायत वगैरह भेजने के इच्‍छुक हों तो meribitiyakhabar@gmail.com पर हम आपकी प्रतीक्षा कर रहे है.

Advertisement

अनाथ बच्चियों को गुर्राते हुए धमका रहा है एसपी-क्राइम, कि बाहरी बदमाशों को बुला कर तेरा हाथ-पैर तुड़वाऊंगा

: यकीन नहीं आता है कि अखिलेश-सरकार में बड़े पुलिस अफसर भी इतना गुण्‍डागर्दी कर सकते हैं : लखनऊ की दो अनाथ बच्चियों को इस बड़े दारोगा से बचाओ : अवैध निर्माण और कब्‍जा का विरोध पर घर में घुस कर नंगी रिवाल्‍वर-तमंचे लहराते हुए धमकाया पड़ोसियों को : पुलिस ने दर्ज नहीं की इन बच्चियों की एफआईआर, निरीह पड़ोसियों को बेहाल कर दिया :

कुमार सौवीर

लखनऊ : अखिलेश-सरकार में महिला की सुरक्षा के नाम पर भले ही कितने भी दावे-ढिंढोरे मचाये जाएं, हकीकत यह है कि खुद बड़े ओहदेदार पुलिसवाले भी अनाथ बच्चियों का जीना हराम किये हुए हैं। राजधानी की महानगर कालोनी में रहने वाली दो अनाथ बच्चियों को अब सरेआम पिटाने की साजिश की जा रही है पुलिस के एक बड़े दारोगा ने। इस अफसर ने इन बच्चियों और अपने पड़ोसियों को पिटाने  की हर चंद साजिश बुन डाली है। इस अफसर ने संकल्‍प कर लिया है कि अब इन लोगों की पिटाई तो होगी ही, लेकिन इसके लिए यह अफसर किसी बाहर के माफियाओं को बुला कर हाथ-पैर तुड़वायेगा।

जी हां। यह साजिश-नुमा ऐलान लखनऊ में तैनात एक बड़ा दारोगा बुन चुका है। यह बड़ा दारोगा कोई ऐरा-गैरा-नत्‍थू-गैरा नहीं है, बल्कि वह यूपी पुलिस में एसपी-क्राइम के पद पर तैनात है। नाम है राकेश शंकर। पीपीएस से आईपीएस तक पहुंचे इस बड़े दारोगा का दावा है कि वह पूरे यूपी में होने वाली क्राइम का सबसे बड़ा अफसर है। और वह जो भी चाहे, बे-धड़क कर सकता है। बावजूद इसके कि एसपी-क्राइम का पद केवल आंकड़ा जुटाने जैसे महत्‍वहीन ओहदा-सा है, लेकिन यह बड़ा दारोगा अपनी हेकड़ी में इजाफा करने के लिए इस पद का उच्‍चारण करना नहीं भूलता। राकेश शंकर ने मुझसे बातचीत में भी खूब डींगें हांकीं:- बॉस, पूरी यूपी का काम कर रहा हूं आजकल।

तो राकेश शंकर की इस धमकी का ऑडियो मेरे पास है। वह सुनाने के पहले मैं आप पाठकों को बता दूं कि इन अनाथ बच्चियों का असल मामला क्‍या है। इसके बाद ही आपको पता चल पायेगा कि पुलिस के इस और ऐसे पुलिस अफसर किस-किस नीचता तक उतर सकते हैं। जाहिर है कि ऐसे ही बड़े दारोगा लोग न केवल आम आदमी का जीना हराम किये रहते हैं, बल्कि पुलिस महकमे और पूरे सरकार की भी नाक कटाये रखते हैं। पुलिस की छीछालेदर वाली छवि बिगाड़ने में ऐसे बड़े दारोगाओं की ही बड़ी भूमिका होती है।

दरअसल, महानगर कालोनी में ए-वन नाम का एक सेक्‍टर क्षेत्र है। यह इलाका पुराने बाशिंदों का माना जाता है। इनमें से एक मकान में दो वयस्‍क बच्चियां भी अपनी विधवा मां, और बुजुर्ग मामा-मामी के साथ रहती हैं। चूंकि यह बिना बाप की अनाथ बच्चियां हैं, इसलिए मैं उन्‍हें बेटियां ही पुकारूंगा। यह मेरी बिटिया डॉट कॉम की यह नैतिक बाध्‍यता और सामाजिक दायित्‍व-सरोकार का मसला भी तो है न, इसलिए।

कालोनी में ही रहने वाले एक पड़ोसी ने बताया कि दो साल पहले राकेश शंकर ने इन बच्चियों के पड़ोस वाला मकान करीब डेढ़ करोड़ रूपयों में खरीदा था। इसके बाद राकेश शंकर ने इस मकान को पूरी तरह ध्‍वस्‍त कर दिया और उसके स्‍थान पर एक खासा गहरा बेसमेंट खोद कर निर्माण शुरू किया। इस प्रक्रिया में आसपास के लोगों का मकान दरकना शुरू हो गया तो उन्‍होंने राकेश शंकर से ऐतराज किया। राकेश शंकर ने मेरी बिटिया डॉट कॉम से बातचीत में बताया कि जिनका मकान दरक गया था, उन्‍हें मुआवजा दे दिया गया है। लेकिन उन पड़ोसियों का कहना है कि उन्‍हें अब तक ऐसा कोई भी मुआवजा नहीं मिला है।

वैसे भी  इन पड़ोसियों का कहना था कि यह बेसबेंट नियम विरूद्ध है और इसके चलते उन पड़ोसियों का मकान कभी भी ढह सकता है। लेकिन www.meribitiya.com से बातचीत में राकेश शंकर ने आरोप लगाया है कि एक पागल पड़ोसी ही सारा बवाल कर रहा है। राकेश शंकर ने यह तक बताया कि इस पागल और उसकी बेटी ने मेरी बेटी की जमकर पिटाई की थी।

आपको बता दें कि इस बड़े दारोगा राकेश शंकर का यह पागल पड़ोसी ही इन अनाथ बच्चियों का बीमार व बुजुर्ग मामा है। हैरत की बात है कि इनमें से एक बच्‍ची ने महानगर कोतवाली में एक लिखित तहरीर दी थी लेकिन अब तक उसकी एफआईआर दर्ज नहीं की गयी। यह भी पता नहीं चल पाया है कि इस अर्जी को कब दर्ज किया जाएगा और कब उस पर कार्रवाई की जाएगी। जबकि दूसरी ओर, कालोनी के कुछ पड़ोसियों को राकेश शंकर के दबाव में पुलिस ने रात भर कोतवाली में बंद ही रखा था।

इस बारे में www.meribitiya.com से इस बड़े दारोगा यानी आईपीएस अफसर राकेश शंकर से बातचीत की। जरा सुनिये कि क्‍या-क्‍या धमकी नहीं दे रहे हैं राकेश शंकर।

इतना ही नहीं, जब राकेश शंकर को अहसास हो गया कि मामला अब तक पहुंच गया है, तो आखिर में किस तरह विनीत भाव में गिड़गिड़ाने लगे बड़े दारोगा राकेश शंकर। इस बातचीत को सुनने के लिए निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:- देख लो न, कि कैसे अंधेरगर्दी मचा रखा है बड़े दारोगा राकेश शंकर ने

राकेश शंकर की करतूत पर सबसे पहले प्रकाशित हुई खबर को पढ़ने के लिए कृपया निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिएगा:- इस बड़े दारोगा की गुण्‍डागर्दी तो देखिये। जीना हराम कर रखा है इन अनाथ बच्चियों का

Comments (1)Add Comment
...
written by RAJEEV MOHAN, September 21, 2016
yeh saahasik khoji patrakarita ka naayaab namoonaa hai.
aaisi LAW AND ORDER Ki undekhi kar daalne waali SARKAAR ke SP CRIME Ka sapramaan kachha chitthha kholne ka saahas koi routine patrakar shayad nahi karta......... aapki HIMMAT ki daad deta hoon............

Write comment

busy